Monday, June 1, 2009

हरे कृष्ण..

कारण कारज सब लागी
पाए न कोई ठौर..
गोविन्द भाव रमण जेहि
प्रीत न चाहे और..